Computer not working.

Learn how to resolve computer issue, when the power light is on, but there is no apparent system activity.

Check the Power-Supply Voltages. Use a Voltmeter to Verify that Each Output from the Power Supply is Correct. Below the Table-1 Lists the Proper Voltage for Each Wire Color.

If any Output is very Low or Absent (Especially the 5-V Output ), Replace the Power Supply. Use a Voltmeter and Verify that the Power Good (or PwrOK) Signal is the +5 V. If this Signal is Below 1.0 V, It Might Inhibit the CPU from Running by Forcing a Continuous Reset Condition. Because the Good Power Signal is Generated by the Power Supply, Try Replacing the Power Supply.

Check to See that the CPU is Cool, that the Heatsink/Fan Assembly is Fitted on Correctly, and that the CPU Itself is Inserted Properly and Completely into its Socket.

Check the CPU Socket-If the CPU is Seated in a Zero Insertion Force (ZIF) Socket, Be Sure that the Socket's Tension Lever is Closed and Locked into Place.

If there is a Separate Math Coprocessor on the Motherboard (i286 and i386 Systems), Be Sure that the MCP is Inserted Properly and Completely into its Socket.

Next, Check the Expansion Boards and Be Sure that all Expansion Boards are Seated Properly. Any Boards that are not Secured Properly, or that are Inserted Unevenly Can Short Bus Signals and Prevent the PC from Starting.

Check the Motherboard for Shorts. Inspect the Motherboard at Every Metal Standoff and See that no Metal Traces are being Shorted Against a Standoff or Screw.

You Might want to Free the Motherboard and See if the System Starts. If it does, use Non-Conductive Spacers (Such as a Small Piece of Manila folder) to Insulate the Motherboard from Each Metal Standoff.

If the System Still Fails to Start (And all Voltages from the Power Supply are Correct), Replace the Motherboard.

Hope that helps.

Table-1: PINOUTS of ATX and Baby AT Power Connector

ATX Power Connector


COLOR VOLTAGE PIN
Orange +3.3 Vdc 1
Orange +3.3 Vdc 2
Black GND 3
Red +5 Vdc 4
Black GND 5
Red +5 Vdc 6
Black GND 7
Gray PwrOK 8
Purple +5V standby 9
Yellow +12 Vdc 10
Orange(22AWG) +3.3 Vdc 11
Brown (22AWG) 3.3 V sense 11
Blue -12 Vdc 12
Black GND 13
Green PS-ON 14
Black GND 15
Black GND 16
Black GND 17
White -5 Vdc 18
Red +5 Vdc 19
Red +5 Vdc 20

Baby AT Power Connectors


COLOR VOLTAGE PIN
Orange PwrOK 1 (P8)
Red +5 Vdc 2 (P8)
Yellow +12 dc 3 (P8)
Blue -12 Vdc 4 (P8)
Black GND 5 (P8)
Black GND 6 (P8)
Black GND 1 (P9)
Black GND 2 (P9)
White -5 Vdc 3 (P9)
Red +5 Vdc 4 (P9)
Red +5 Vdc 5 (P9)
Red 6 (P9)

Computer not running.

Learn how to resolve a computer issue, when there is no power light, but cooling fan is running.

Usually means that some level of ac power is reaching the system. Use a voltmeter and Confirm that there is Adequate ac Voltage at the wall outlet. Unusually low ac Voltages (Such as During "Brownout" Conditions) can cause the Power supply to Malfunction.

Verify that the Power-Supply Cables are Attached properly and securely to the Motherboard. Use a Voltmeter to Verify that Each output from the Power supply is Correct.

Table-1 illustrates the Proper Voltage for Each Wire/Color. If any Output is very Low or Absent (Especially the +5 Volt Output), Replace the Power Supply. Finally, Use a Voltmeter and Verify that the Power Good (or PwrOK) Signal is +5 V.

If this Signal is Below 1.0 V, it Might Inhibit the CPU from Running by Forcing a Reset Condition. Because the Power Good Signal is Generated by the Power Supply, Try Replacing the Power Supply.

Table-1: PINOUTS of ATX and Baby AT Power Connector

ATX Power Connector


COLOR VOLTAGE PIN
Orange +3.3 Vdc 1
Orange +3.3 Vdc 2
Black GND 3
Red +5 Vdc 4
Black GND 5
Red +5 Vdc 6
Black GND 7
Gray PwrOK 8
Purple +5V standby 9
Yellow +12 Vdc 10
Orange(22AWG) +3.3 Vdc 11
Brown (22AWG) 3.3 V sense 11
Blue -12 Vdc 12
Black GND 13
Green PS-ON 14
Black GND 15
Black GND 16
Black GND 17
White -5 Vdc 18
Red +5 Vdc 19
Red +5 Vdc 20

Baby AT Power Connectors


COLOR VOLTAGE PIN
Orange PwrOK 1 (P8)
Red +5 Vdc 2 (P8)
Yellow +12 dc 3 (P8)
Blue -12 Vdc 4 (P8)
Black GND 5 (P8)
Black GND 6 (P8)
Black GND 1 (P9)
Black GND 2 (P9)
White -5 Vdc 3 (P9)
Red +5 Vdc 4 (P9)
Red +5 Vdc 5 (P9)
Red 6 (P9)

Computer not starting.

Learn how to resolve the issue when there is no power light, and you cannot hear any cooling fan noise in the computer.

Chances are that there is Insufficient Power to the Computer. Use a Voltmeter and Confirm that there is Adequate ac Voltage at the Wall Outlet. Check the ac Cord next-it Might be Loose or Disconnected. See that the Power Switch is Turned on and Connected Properly. Check the Power-Supply Fuse(S). The Main Fuse Might have Opened. Replace any Failed Fuse.

If You Replace the Main Fuse and the Fuse Continues to Fail, You Might have a Serious Fault in the Power supply. Try Replacing the Power Supply.

Java Program

This tutorial is to show you how to declare variables in Java.

In Java, all variables must be declared before they can be used in the programs. The following is the syntax of variable declaration in Java.

Java - Variable Declaration Syntax

type identifier [ = value ][, identifier [ = value ] ...];

Here the type is the Java supported data types, or the class name, or interface name. The identifier is the name of the variable. To initialize a variable in Java, use equal sign and a value. To declare more than one variable of the same type, use a comma to separate.

Example - Declaring Variables in Java

In the following Java program, it is declaring multiple variables, and some of them include an initialization.

public class Variables {
    public static void main(String args[])
    {
        int x, y, z; // declares three intejers of x, y, and z.
        int a = 4, b, c = 9; // declares intejer a with value 4 and c with value 9 but b not yet initialized

        byte d = 21;
        double pi = 89.14252;
        
        char ch = 'x';
        
        String s = "abc";

        // printing the variables value that have been initialized
        System.out.println("a = " + a);
        System.out.println("c = " + c);
        
        System.out.println("d = " + d);
        System.out.println("pi = " + pi);
        
        System.out.println("ch = " + ch);
        System.out.println("s = " + s);        
        
        // variables x, y, z, and b not yet initialized
        
    }
}

Output

a = 4
c = 9
d = 21
pi = 89.14252
ch = x
s = abc

जानिये पेट और कमर की चर्बी कम करने के उपाय

शरीर पर मोटापे के बढ़ने के मुख्य संकेत

शरीर पर मोटापे के बढ़ने के मुख्य संकेत ठोड़ी नीचे व गले के ऊपर मांस बढ़ना और पेट कमर व कूल्हों की चर्बी बढ़ना होता है। मोटापा कम करने के लिए पेट व कमर को सही अनुपातिक आकार में करना पेहला कदम है। आज यहाँ आपके लिए, पेट और कमर की चर्बी कम कैसे करें इस विषय में कुछ कारगर उपाय प्रस्तुत करते है।

गलत ठंग से आहार विहार याने खान पान व रहन सहन से जब शरीर पर चर्बी बढ़ती है तो पेट बाहर निकल आता है, कमर मोती हो जाती है और कूल्हे भरी हो जाते हैं। इसी अनुपात से हाथ पैर और गर्दन पर भी मोटापा आने लगता है। जबड़ो के नीचे गर्दन मोटी होना और तोंद बढ़ना मोटापे के मोटे लक्षण है।

पेट और कमर की चर्बी कम करने के उपाय

मोटापे से जहां शरीर भद्दा दिखाई देता है वहीं स्वास्थय से सम्बंधित कुछ व्याधियां पैदा हो जाती हैं लिहाज़ा मोटापा किसी भी सूरत में अच्छा नहीं होता। बहुत कम स्त्रियां मोटापे के शिकार होने से बच पति हैं। हर समय कुछ न कुछ खाने की शौकीन, मिठाइयां, तेल पदार्थ का अधिक सेवन करने वाली और शारीरिक परिश्रम न करने वाली स्त्रियों के शरीर पर मोटापा आ जाता है।

प्रायः प्रसूति के बाद असावधानी, गलत आहार विहार से स्त्रियों का पेट बढ़ जाया करता है। गर्भ काल में जो स्त्रियाँ नाखून से पेट खुजाया करते हैं उनके पेट पर सफेद धारियां पड़ जाती हैं। जिन्हें किक्किस कहते हैं। प्रसव के बाद ४० दिन तक पेट बांध कर रखने से पेट बड़ा नहीं हो पता। पेट बांधने की बेल्ट बाजार में मिलती है। पहली कोशिश तो ये करनी चाहिए की पेट बढ़ने ही न पाये क्योंकि एक बार पेट बढ़ जाने पर कम करना कठिन और समय-साध्य कार्य हो जाता है। इसके लिए दो तीन बातों का ध्यान रखना जरुरी है।

प्रायः महिलाएं भोजन करके खूब पानी पिया करती हैं। इस विषय में निरोग धाम के गत अंकों में विस्तार से यह बताया जा चूका है की भोजन के अंत में पानी पीना उचित नहीं बल्कि १-१ घंटे बाद ही पानी पीना चाहिए। इससे पेट और कमर पर मोटापा नहीं चढ़ता बल्कि मोटापा हो भी तो कम हो जाता है

आहार भूख से थोड़ा कम ही भोजन खाना चाहिए।  इससे पाचन भी ठीक होता है और पेट बड़ा नहीं होता। पेट में गेस नहीं बने इसका ख्याल रखना चाहिए। गेस के तनाव से तन कर पेट बड़ा होने लगता है। दोनों समय शौच के लिए अवश्य जाना चाहिए। भोजन में शाक सब्जी, कच्चा सलाद और कच्ची हरी शाक सब्जी की मात्रा अधिक और चपाती, चावल व आलू की मात्रा कम रखना चाहिए। सप्ताह में एक दिन उपवास या एक बार भोजन न करने के नियम का पालन करना चाहिए। उपवास के दिन सिर्फ फल और दूध का ही सेवन करना चाहिए

बफारे की भाप - पेट की चर्बी कम करने के लिए

पेट व कमर की चर्बी कम करने के लिए सुबह उठने के बाद या रात को सोने से पहले नाभि के ऊपर उदर भाग को बफारे की भाप से सेक करना चाहिए। इसकी विधि -- एक तपेली पानी में एक मुठ्ठी अजवायन और एक चम्मच नमक दाल कर उबलने रख दें। जब भाप उठने लगे तब इस पर जाली या आटा छानने की छन्नी रख दें। दो छोटे नेपकिन या कपड़े ठन्डे पानी में गीले कर निचोड़ ले और थे करके एक-एक कर जाली पर रख गरम करें और पेट पर रख कर सकें। प्रति दिन १० मिनट सेक करना पर्याप्त है। कुछ दिनों में पे की चर्बी कम होने लगेगी।

मोटापा घटाने के आसन

सुबह उठ कर शौच से निवृत होने के बाद निम्नलिखित आसनों का अभ्यास करें या प्रातः २-३ किलोमीटर तक घूमने जाया करें।

पौष्टिक आहार

भोजन के गेंहू के आटे की चपाती लेना बंद करके जों और चने के आटे की चपाती लेना शुरू कर दें। इसका अनुपात है १० किलो चना और दो किलो जों। इन्हें मिलाकर पिसवा ले और इसी आटे की चपाती खाएं। इससे सिर्फ पेट और कमर का ही नहीं सारे शरीर की चर्बी कम होती है। प्रातः एक गिलास पानी में २ चम्मच शहद घोल कर पिने से भी मोटापा कम होने लगता है। दूध और शुद्ध घी का सेवन बंद करें।

इस प्रकार उपाय करके पेट और कमर का मोटापा घटाया जा सकता है। 

सीखें की नाड़ी परिक्षण कैसे करें |

नाड़ी परीक्षा का अभ्यास शुरू करने से पहले यह बहुत जरुरी है कि वात, पित्त और कफ के कुपित होने पर प्रकट होने वाले लक्षणों के विषय में पूरी जानकारी प्राप्त कर ली जाय, साथ ही इनके कुपित होने के कारणों के विषय में भी पर्याप्त जानकारी होना जरुरी है ताकि नाड़ी की गति को ठीक से देख के ये जाना जा सके कि कौन सा दोष कुपित हुआ है और उसके कुपित होने से क्या क्या लक्षण पैदा हो सकते है| इस जानकारी के आभाव में नाड़ी देखने में सिर्फ येही जाना जा सकेगा कि नाड़ी की गति सामान्य है या बड़ी हुई है| अन्य कोई बात नहीं जानी जा सकेगी|

नाड़ी देखने कि विधि

महापंडित रावण रचित ग्रन्थ "नाड़ी परीक्षा" में रोग परीक्षा करने के लिए, ये आठ वस्तुओं की परीक्षा करना आवश्यक बताया है --

१. नाड़ी
२. मूत्र
३. मल
४. जीभ
५. शब्द
६. स्पर्श
७. नेत्र
८. आकृति

सीधे हाथ के अंगूठे के नीचे कलाई की एक उंगल जगह छोड़कर, वैध अपने सीधे हाथ की पहली दूसरी और तीसरी अंगुली रख अंगूठे को कलाई के नीचे लगा कर नाड़ी दबाये और बाए हाथ से रोगी के हाथ को कोहनी से थाम के रखें|

पहली अंगुली के नीचे वात, बीच की अंगुली के नीचे पित्त और तीसरी अंगुली के नीचे कफ की स्थिति ज्ञात होती है| सूक्षम रीती से मन को एकाग्र करके पूर्ण दत्त चित होकर नाड़ी की इन विभिन्न गतियों को समझना ही नाड़ी परिक्षण है|

नाड़ी का परिक्षण तीन बार करने का विधान किया गया है ताकि बड़ी बारीकी से नाड़ी की स्थिति समझी जा सके| एक बार नाड़ी देखकर छोड़ दे फिर देखे| अपने बाए हाथ से रोगी की कोहनी थाम कर दाहिने हाथ धैर्य और एकाग्रता से चतुर और अनुभवी वैध को यत्त्न पूर्वक नाड़ी परिक्षण करना चाहिए|

वैध रोगी की नाड़ी परिक्षण करते हुए, पहली अंगुली का हल्का दबाव देकर, स्पन्दन का अनुभव करके वाट की स्थिति समझे, दूसरी अंगुली से पित्त की और तीसरी अंगुली से कफ की स्थिति समझें|

इन स्थिति को समझने और इसकी बारीकियों को ठीक-ठीक ढंग से पहिचानने के लिए किसी सिद्धहस्त और पुराने अनुभवी नाड़ी विशेषज्ञ की कृपा और शिक्षा प्राप्त करना बहुत आवश्यक है| ऐसा सुयोग किसी को मिल सके तो उसे अवश्य ऐसे ज्ञानी वैध को गुरु बनाकर सेवा करनी चाहिए और यह नाड़ी परीक्षा का ज्ञान प्राप्त करना चाहिए| जिन्हें ऐसा सुयोग न मिल सके, वे नाड़ी परिक्षण करने के विषय में आयुर्वेद शास्त्र के ग्रंथों में नाड़ी प्रकरण जहां जहां मिलिए उसका भली भांति अध्यन करके बार बार अपने निजी अभ्यास से नाड़ी परीक्षा करके अपने स्वयं के अनुभव को बड़ा कर स्वयं नाड़ी विशेषयगता अर्जित कर सकते है| धैर्य पूर्वक निरंतर यत्त्न करना जरुरी है| जो ऐसा नहीं कर सके या करना न चाहे उन्हे नाड़ी देखने के चक्कर में नहीं पड़ना चाहिए और खामखां नाड़ी देखने का नाटक नहीं करना चाहिए| 

Toronto Canada

Everyone wants to work in the best company for his growth and work & personal life balance. And if the opportunity is in abroad a country like Canada, then it would be much better. Glassdoor has an excellent review option so that employees can review their company which is very helpful for others to find the right company for him. That is why here I am giving the list of 10 best companies in Canada according to Glassdoor, where you can try to find an opportunity for you to have a great career.

List of 10 Best Companies to Work in Canada According to Glassdoor

  1. Microsoft is a computer hardware and software company, having 10000+ employees, revenue $10+ billion (CAD) per year, having rating 4.1, 85% recommended to a friend, and 95% approve of CEO.
  2. PointClickCare is computer hardware and software company, having 4000+ employees, having Glassdoor rating 4.5, 89% recommended to a friend, and 97% approve of CEO.
  3. SAP is computer hardware and software company, having 10000+ employees, revenue $10 billion (CAD) per year, having rating 4.5, 93% recommended to a friend, and 98% approve of CEO.
  4. Keg Restaurants is a restaurant, having 4000+ employees, revenue $500 million (CAD) per year, having rating 4.1, 86% recommended to a friend, and 97% approve of CEO.
  5. Ubisoft is a video games company, having 10000+ employees, revenue $5 billion (CAD) per year, having rating 3.8, 80% recommended to a friend, and 94% approve of CEO.
  6. LinkedIn is a business and employment oriented company, having 10000+ employees, rating 4.3, 86% recommended of a friend, and 96% approve of CEO.
  7. Facebook is an internet social media company, having 10000+ employees, rating 3.9, 96% recommended to a friend, and 100% approve of CEO.
  8. Google is an internet company, having 10000+ employees, rating 4.4, 89% recommended of a friend, and 94% approve of CEO.
  9. Lululemon is Department, Clothing, & Shoe Stores company, having 5000+ employees, revenue 500 billion (INR) per year, having rating 4.1, 84% recommended of a friend, and 89% approve of CEO.
  10. Southwest Airlines is Airlines, having 10000+ employees, rating 4.3, 87% recommended of a friend, 90% approve of CEO.

Ads Below Title

Vinish Kapoor

{picture#https://lh3.googleusercontent.com/-RsvX58zzyLY/W9GNv-sV_cI/AAAAAAAAAC4/LnXZfULw2N4R80w4vIvJOaQZ2DFzD4cygCLcBGAs/h120/author-vinish-kapoor.jpg} A Software Consultant by profession and a passionate blogger by heart. Founder of Foxinfotech.in (featured at number 10 in top 100 Oracle Blogs) and Howto-Guides.com. {facebook#https://www.facebook.com/foxinfotech2014} {twitter#http://twitter.com/foxinfotech} {google#https://plus.google.com/u/2/104300764951712559507} {pinterest#https://in.pinterest.com/foxinfotech} {youtube#https://www.youtube.com/channel/UC2UW6kjAdvyCgg9VcHLyZkQ} {instagram#https://www.instagram.com/foxinfotech}
Powered by Blogger.